ले लो चैन की सांसे ही – अनु महेश्वरी

उच्चाईयो को जितना भी छू लो,
व्यस्तता में खो, अगर नहीं संभाले,
तुमने अपने ज़िन्दगी के रिश्तों को,
एक अपूरणीय खालीपन जीवन में,
हमेशा के लिए रह ही जायेगा तुम्हारे|

अपने भी अगर उपेक्षित होते होते,
अलग से अपनी खुशिया ढूंढ लेंगे,
फिर जीवन के उस पल का सोचों,
जब खाली समय होगा शाम को,
और तुम कहीं अकेले न रह जाओ ?

समय रहते संभाल लो इन रिश्तों को,
केवल काम में ही मशगूल तुम न रहो,
यह दुनिया तुम्हारे पहले भी चल रही थी,
तुम्हारे जाने के बाद भी चलती ही रहेगी,
अपने रिश्तों को भी ज़रा मधुर बनालो|

अपने व्यस्तता भरे दिनों में भी,
तुम अपनों का हाथ थाम कर,
दो कदम चल भी लिया करो,
वह आँखे कभी शिकायते नहीं करती होगी,
पर साथ तुम्हारा पाने को तरसती तो होगी|

बैठो कुछ पल अपनों के साथ,
छुट्टियां बिताने के बहाने ही सही,
जिओ ज़िन्दगी अपनों के साथ,
ले लो चैन की सांसे ही,
चाहे दो पल ही सही|

 
अनु महेश्वरी
चेन्नई

12 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 18/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 18/06/2017
  2. arun kumar jha arun kumar jha 18/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 18/06/2017
  3. babucm babucm 19/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 19/06/2017
  4. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 19/06/2017
  5. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 19/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 20/06/2017
  6. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 21/06/2017

Leave a Reply