वन्दना-अरूण कुमार झा बिट्टू

हे शिव कठपुतली हम और
तेरे हाथो मे हैं डोर
तू चाहे सम्भाल ले हमको
छोर दे चाहे जीवन डोर
हे शिव……

मान मिले सम्मान मिले
तू चाहे उसको नाम मिले
तेरी जो न चाहत हो तो
राजा घूमे डर डर बेमोल
हे शिव……..

दुनिया के इस रंग मंच पर
नाम कमाना चाहता हूं
दिनकर और बच्चन सम मै भी
परचम लहराना चाहता हूं
कर बिन्ती कबूल स्वामी
मेरी कलम को दे दे जोर
हे शिव……..

वो जीवन क्या जीवन हैं
जिसका न कोई नाम हुआ
आए आकर चले गए
मानो लहरो सम काम हुआ
कर जाऊ वो सुकाम की भोले
जग भूल न पाए सदियो मोर
हे शिव……..

12 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 17/06/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 18/06/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 17/06/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 18/06/2017
  3. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 17/06/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 18/06/2017
  4. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 18/06/2017
    • arun kumar jha Arun Kumar jha 18/06/2017
  5. babucm babucm 19/06/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 20/06/2017
  6. arun kumar jha arun kumar jha 20/06/2017

Leave a Reply