मज़बूत – अनु महेश्वरी

अगर रिश्तों में थोड़ी तल्खी आजाए कभी,
कोशिश न करे, हर वक़्त, उसे जोड़ने की|

हवा के उस भंवर को गुजर जाने का वक़्त दे,
तूफ़ान शांत होने के बाद, नज़रे साफ़ होती है|

रिश्तो को नई सांसे मिलती, जीने के लिए,
जुड़ ही जाता फिर से, अगर रिश्ता सच्चा है|

तूफानों से टकरा के जब रिश्ते निखरते है,
ऐसे नाते सदा के लिए मज़बूत बन जाते है|

 

अनु महेश्वरी
चेन्नई

16 Comments

  1. Vivek Singh Vivek Singh 16/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 17/06/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 17/06/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 17/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 17/06/2017
  4. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 17/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 17/06/2017
  5. C.M. Sharma babucm 17/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 17/06/2017
  6. Madhu tiwari Madhu tiwari 17/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 17/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 17/06/2017
  7. arun kumar jha arun kumar jha 17/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 17/06/2017

Leave a Reply