एल एल पी पी – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा बिन्दु

पंचायत सरपंच और मुखिया जी

जैसे तैसे रह गये दुखिया जी ।

जीत जाते है नोट बांटकर

रोब दिखaते हैं ड़ांटकर ।

नोट छीटकर दाना ड़ाला था

लुटा दिये जो धन काला था ।

सबको फांस लिये जाल में

नेता बन गये कमाल में ।

एम एल ए फिर जैसे एम पी

वाह रे इनका एल एल पी पी ।

बड़ी सोच और बड़ा घोटाला

बातें सफेद करतूत काला ।

ऐसा कोई कहॉ दिखता है

मोदी सा फिर क्यों पिसता है ।

देख देख आया शैतान

चालिस में चार इंसान ।

इनसे कैसे बच पायेंगे

साथ में बस नच पाओगे ।

बढ़ता है इनसे अपराध

रोके क्या इनको एक आध ।

जेल जैसे स्वर्ग का द्वार

दामाद जैसे मिलता प्यार ।

जो जितना बड़ा अपराधी

सेवा टहल में पलटन आधी ।

बड़ा लचीला कानून कमजोर

ताल ठोककर घूम रहे चोर ।

शासन के भी बंधे हैं हाथ

कुछ नेता हैं उनके साथ ।

कब रूकेगी ये तूफान

वाह रे अपना हिन्दुस्तान ।

 

 

बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा  बिन्दु

18 Comments

  1. arun kumar jha arun kumar jha 11/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 12/06/2017
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 11/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 12/06/2017
  3. Madhu tiwari Madhu tiwari 11/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 12/06/2017
  4. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 11/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 12/06/2017
  5. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 12/06/2017
  6. SARVESH KUMAR MARUT SARVESH KUMAR MARUT 12/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 12/06/2017
  7. babucm babucm 12/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 12/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 12/06/2017
  8. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 12/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 12/06/2017

Leave a Reply