ईश्वर का प्रसाद – अनु महेश्वरी

जो भी करो, करो दिल से,
यह बात सभी कहते, सबसे
पर भावनाओं में बहकर,
कोई कुछ न करे कभी,
बेहतर है दिमाग का भी,
इस्तेमाल करे यहाँ सभी|

 
कानून के दायरे में रह कर ही
सोचो करने से पहले, कुछ भी,
एकबार ठीक से सोच लिया, जब,
परिणाम की फ़िक्र ना करो, तब,
मेहनत, बस तुम करो, जी तोड़,
अंजाम को मुक्कदर पे, दो छोड़|

 
जो तुम्हारे लिए है सही,
इश्वर देते है बस, वही,
यह भावना अगर मन में जगा सकोगें,
जो भी फल मिले उसे स्वीकार सकोगें,
जब इसे ईश्वर का प्रसाद कहोंगे,
तब मन से विचलित कभी न रहोंगे|

 

अनु महेश्वरी
चेन्नई

16 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 11/06/2017
  2. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 11/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 11/06/2017
  3. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 11/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 11/06/2017
  4. डी. के. निवातिया dknivatiya 11/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 11/06/2017
  5. arun kumar jha arun kumar jha 11/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 12/06/2017
  6. SARVESH KUMAR MARUT SARVESH KUMAR MARUT 12/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 12/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 12/06/2017
  7. babucm babucm 12/06/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 12/06/2017

Leave a Reply