आकाश में जैसे चंदा – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा बिन्दु

 

आकाश में जैसे चंदा नजर आती है

रूप अंतस में आपका उतर जाती है।

बड़ी प्यारी किरण है मनभावन है ये

जुगनु देता पहरा इनके चारो तरफ

इनको पढ़ लो जानो हर एक हरफ

इनको सोचो तो ऑखें भर आती है

आकाश में जैसे चंदा ————-।

मेरे मेहबूब की है ये पहली झलक

जो देखे तो उनके गिरे न पलक

चूड़ा ये बिंदिया अब महक जायेंगे

लोग हैरत में पड़कर बहक जायेंगे

याद करो तो दिल में ठहर जाती है

आकाश में जैसे चंदा————-।

ये कुदरत की हसरतें बड़ी हसीन है

जान पाया न कोई बड़ी संगीन है

कयामत बड़ी है प्यार है किसी का

इनको पाया जिंदगी निखर जाती है

आकाश में जैसे चंदा————-।

 

बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा  बिन्दु

23 Comments

  1. Anderyas Anderyas 10/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 10/06/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 10/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 10/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 10/06/2017
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 10/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 10/06/2017
  4. Kajalsoni 10/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 10/06/2017
  5. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 10/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 10/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 10/06/2017
  6. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 10/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 10/06/2017
  7. babucm babucm 10/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 10/06/2017
  8. arun kumar jha arun kumar jha 10/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 10/06/2017
  9. SARVESH KUMAR MARUT SARVESH KUMAR MARUT 10/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 10/06/2017
  10. डी. के. निवातिया dknivatiya 11/06/2017
  11. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 11/06/2017

Leave a Reply