धूप

धूप क़िताबों के ऊपर है
या
भीतर कहीं उसमें
कहना
मुश्किल है इस समय

इस समय मुश्किल है
कहना
कि क़िताबें नहा रही हैं धूप में
या धूप क़िताबों में

पर यह देखना और महसूसना
नहीं मुश्किल
कि मुस्कुरा रही हैं क़िताबें
धूप की तरह
और धूप गरमा रही है क़िताबों की तरह ।

Leave a Reply