पर्यावरण दिवस — डी के निवातिया

 

पर्यावरण दिवस

चलो, हम भी सब की तरह झूठ मूठ की परम्परा निभा लेते है
इस बार भी पांच जून को फिर से पर्यावरण दिवस मना लेते है
विलासिता और विकास की दौड़ में बचा पाना तो मुश्किल है
परमपरागत जागरूक होने का प्रमाणिक फ़र्ज़ तो जता लेते है !!
!
!
!

डी के निवातिया

18 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 05/06/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 13/06/2017
  2. arun kumar jha arun kumar jha 05/06/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 13/06/2017
  3. Kajalsoni 05/06/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 13/06/2017
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/06/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 13/06/2017
  5. Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 06/06/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 13/06/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 13/06/2017
  6. C.M. Sharma babucm 06/06/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 13/06/2017
  7. Madhu tiwari madhu tiwari 07/06/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 13/06/2017
  8. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 07/06/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 13/06/2017

Leave a Reply