गजल – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा बिन्दु

 

मुफलिसों के इस बाजार में, अपनी अस्मत अब बचाइये

हर साख पर उल्लू बैठे हैं, अपनी किस्मत न अजमाइये।

 

कि प्यार मुहब्बत इश्क, अब सब पैसों की नहीं होती

हर जगह हर तरफ धोखा है, हर तरफ नफरत न लाइयें।

 

दिल लगाना बुरी बात नहीं, बेवफा की बात कुछ और है

दिल अपना तोड़कर, दिल तोडने की जहमत न उठाइये।

 

प्यार अगर ऑखों से झलक जाए, तो फिर क्या बात है

जमाने से ही चल रहे, ऐसे फितरत को अब न भुलाइये।

 

तन्हा भला कोई कब तलक, रह पायेगा इस जमाने में

कितना पाक साफ यह रिश्ता, इसमें मजहब न लाइये।

 

बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा  बिन्दु

18 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 03/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 04/06/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 03/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 04/06/2017
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 03/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 04/06/2017
  4. Kajalsoni 03/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 04/06/2017
  5. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 03/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 04/06/2017
  6. arun kumar jha arun kumar jha 04/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 04/06/2017
  7. SARVESH KUMAR MARUT SARVESH KUMAR MARUT 04/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 05/06/2017
  8. babucm babucm 05/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 05/06/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 05/06/2017

Leave a Reply