साक़ी पर इल्ज़ाम न आये

साक़ी पर इल्ज़ाम न आये
चाहे तुझ तक जाम न आये

तेरे सिवा जो की हो मुहब्बत
मेरी जवानी काम न आये

जिन के लिये मर भी गये हम
वो चल कर दो गाम न आये

इश्क़ का सौदा इतना गराँ है
इन्हें हम से काम न आये

मयख़ाने में सब ही तो आये
लेकिन “ज़िगर” का नाम न आये

One Response

  1. purshottam khandelwal 27/02/2014

Leave a Reply