ये रिश्ते ऐसे होते क्यों है

ये रिश्ते ऐसे होते क्यों है
कभी प्रेम अटूट सा ,
कभी साथ छूटते क्यों है .
जीवन के इन पन्नो पर ,
रिश्ते ऐसे होते क्यों है .
सीखते सीखते अपनी जिंदगी से ,
ये रिश्ते दूर चले जाते क्यों है.
माँ बाप के अलावा और रिस्तो का,
मोल कुछ भी नहीं ,
वक्त के साथ ये बदल जाते ही है .
कोई रिस्तो की पहचान करा दे मुझे ,
की ये रिश्ते ऐसे होते क्यों है .
हर वक्त चहकने वाले रिश्ते ,
गुमसुम से हो जाते क्यों है ,
होकर गुमसुम ये भीड़ में ,
खो जाते क्यों है .
चलते चलते हम दूर निकल आते है ,
शायद ये रिश्ते पीछे छूट जाते ही है.
                    ये रिश्ते ऐसे होते क्यों है

 

  anjali yadav kgmu(lko)

8 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 30/05/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 30/05/2017
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 30/05/2017
  4. Madhu tiwari madhu tiwari 30/05/2017
    • Anjali yadav 31/05/2017
  5. Kajalsoni 31/05/2017
  6. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 31/05/2017
  7. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 31/05/2017

Leave a Reply