विरोधाभास – अनु महेश्वरी

पत्थरों को, ईश्वर मान पूजा जाता है जहाँ,
कभी कभी वही, जवानो पे भी, बरसते है|

नौरात्र में कन्या की पूजा होती है जहाँ,
वही कन्या भ्रूण की भी, हत्या होती है|

आधी आबादी सामान्य सुविधा से वंचित है जहाँ,
वही क्रिकेट में पानी की तरह पैसा बहाया जाता है|

राष्ट्रहीत में भी नेतागन अलग राग अलापते है जहाँ,
बस कुछ वोटों के लिए भड़काऊ भाषण भी दे जाते है|

सबके समान अधिकार की बाते होती है जहाँ,
चुनाव के वक़्त आरक्षण, एक बड़ा मुद्दा होता है|

देवी के बहुत सारे मन्दिर है जहाँ,
दहेज़ पे बहू की बलि, दे दी जाती है|

माता-पिता को पूज्यनीय माना जाता है जहाँ,
फिर भी वृद्धाश्रम हर शहर में, मिल ही जाते है|

मै उसी भारत की रहने वाली हूँ, आज भी जहाँ,
इन विरोधाभास के साथ मासूमियत भी रहती है|

 
अनु महेश्वरी
चेन्नई

18 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 28/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 28/05/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 28/05/2017
  3. arun kumar jha arun kumar jha 28/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 28/05/2017
  4. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 28/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 28/05/2017
  5. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 29/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 29/05/2017
  6. babucm babucm 29/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 29/05/2017
  7. Kajalsoni 29/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 29/05/2017
  8. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 29/05/2017
    • ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 29/05/2017
  9. SARVESH KUMAR MARUT SARVESH KUMAR MARUT 29/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 29/05/2017

Leave a Reply