यादे-जानाँ भी अजब रूह-फ़ज़ा आती है

यादे-जानाँ[1] भी अजब रूह-फ़ज़ा [2] आती है
साँस लेता हूँ तो जन्नत की हवा आती है

मर्गे-नाकामे-मोहब्बत[3]मेरी तक़्सीर[4]मुआफ़[5]
ज़ीस्त[6] बन-बन के मेरे हक़ में क़ज़ा [7] आती है

नहीं मालूम वो ख़ुद हैं कि मोहब्बत उनकी
पास ही से कोई बेताब सदा[8]आती है

मैं तो इस सादगी-ए-हुस्न पे[9]सदक़े
न जफ़ा आती है जिसको न वफ़ा आती है

हाय क्या चीज़ है ये तक्मिला-ए-हुस्नो-शबाब[10]
अपनी सूरत से भी अब उनको हया[11]आती है

शब्दार्थ:

  1. ↑ प्रेयसी की याद
  2. ↑ प्राण-वर्धक
  3. ↑ असफल प्रेम मृत्यु
  4. ↑ ग़लती
  5. ↑ क्षमा
  6. ↑ जीवन
  7. ↑ मृत्यु
  8. ↑ आवाज़
  9. ↑ सौंदर्य की सादगी पर
  10. ↑ सुन्दरता और यौवन की पूर्ति
  11. ↑ लाज,लज्जा

Leave a Reply