सागर – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा बिन्दु

बूंद बूंद से सागर भरता

झिलमिल नदियों की सागर

पत्थर पहाड़ कंकड़ चलके

छलछल भरती ये गागर ।

हीम प्रपात ये झरने सारे

देख रहे कितने सदियां

मचल मचल ऐसे जैसे

हलचल करती ये नदियॉ ।

गंगा यमुना सरस्वती

प्रयाग बना वह तिरंगा

कन्याकुमारी से कश्मीर

चाहे हो वह कंचनजंगा ।

रास्ता है अलग बहने का

सबका यही अब ठीकाना

चाहे जितना भला बुरा हो

देती यह सबको दाना ।

सागर में अपनी धरती है

कुछ बचा हुआ किनारा

जलचर थलचर नमचर में

सबको है सबका प्यारा ।

ग्रहों का यह है संसार

रंग विरंगे सतरंगे भाल

ज्ञानी भी सब अंजान हैं

माया है दुनिया की जाल ।

 

बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा  बिन्दु

 

16 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 26/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 26/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 26/05/2017
  2. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 26/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 26/05/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 26/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 26/05/2017
  4. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 26/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 26/05/2017
  5. Kajalsoni 26/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 26/05/2017
  6. C.M. Sharma babucm 26/05/2017
  7. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 26/05/2017
  8. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 27/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 27/05/2017

Leave a Reply