आनंद – अनु महेश्वरी

भावनाओ को समझे सभी,
रिश्ते सुखद बनते है तभी,
कुछ तुम समझो, मुझे,
कुछ मै भी समझू, तुम्हें|

ज़िन्दगी तो गुजर जाएगी फिर भी,
मगर हम इसे जी नहीं पाएंगे कभी,
अगर प्यार से बितानी है तो,
कुछ मै झुकू, कुछ तुम झुको|

तक़रारे तो होगी साथ जब रहेंगे,
फासले भी पट ही जायेंगे अगर,
तुम बढ़ाओ दो कदम,
मै भी बढ़ाऊ दो कदम|

चलो आज इस खामोशी को तोड़,
हम अपने बीते पल को साँझा करे,
कुछ तुम सुनो, मुझे,
कुछ मै भी सुनु, तुम्हे|

ज़िन्दगी में हमारे आनंद तभी है,
जब खुशियाँ बिखरी रहे घर में,
न ही तेरी हार में,
न ही मेरी हार में|

 
अनु महेश्वरी
चेन्नई

20 Comments

  1. babucm babucm 26/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 26/05/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 26/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 26/05/2017
  3. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 26/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 26/05/2017
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 26/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 26/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 26/05/2017
  5. Kajalsoni 26/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 26/05/2017
  6. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 26/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 26/05/2017
  7. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 26/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 26/05/2017
  8. raquimali raquimali 26/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 26/05/2017
  9. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 27/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 27/05/2017

Leave a Reply