जो मिल जाते तुम एक बार……सी.एम्. शर्मा (बब्बू)..

खवाब मेरे सच हो जाते…
जो मिल जाते तुम एक बार…
मिल जाता मुझे संसार…
जो मिल जाते तुम एक बार…

पलकों पे बिठाता तुम्हें…
नयन जल नहलाता तुम्हें…
ह्रदय अंग पहनाता तुम्हें…
साँसों की माला कर अर्पण…
करता मैं तेरा श्रृंगार….
जो मिल जाते तुम एक बार…

भावों के मैं थाल सजा कर…
प्रेम का भोग लगाता तुम्हें…
खुलती खिलती पंखुड़ियां जो…
मिलते जब नैनों से नयना मेरे…
भोग बन जाता मेरा प्रसाद…
रोम रोम भर लेता तेरा प्यार…

हंसी तेरी से राग चुराता…
दिल साज पे उसे सजाता…
दोनों के दिल धड़कन को…
गीत बना तुम्हें सुनाता…
रिझाता नाच नाच तुम्हें मैं..
ताल तेरी पायल की झंकार….

जीवन मेरे में जो खुशियां…
अर्पण तुम्हें कर देता मैं …
हर सुख तुझ पे वार के…
तेरे दुःख हर लेता मैं…
‘चन्दर’ देता ये उपहार..
जो मिल जाते तुम एक बार…
\
/सी.एम्. शर्मा (बब्बू)

20 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/05/2017
    • babucm babucm 26/05/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/05/2017
    • babucm babucm 26/05/2017
    • babucm babucm 26/05/2017
  3. vijaykr811 vijaykr811 25/05/2017
    • babucm babucm 26/05/2017
  4. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 25/05/2017
    • babucm babucm 26/05/2017
  5. Kajalsoni 25/05/2017
    • babucm babucm 26/05/2017
  6. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/05/2017
    • babucm babucm 26/05/2017
  7. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 25/05/2017
    • babucm babucm 26/05/2017
  8. Madhu tiwari Madhu tiwari 26/05/2017
    • babucm babucm 26/05/2017
  9. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 27/05/2017
    • babucm babucm 27/05/2017

Leave a Reply