==* न कर सकी तू वफ़ा *==

न कर सकी तू वफ़ा ऐ सनम
मुझे तुझसे कोई गिला भी नहीं
न कर सकी तू वफ़ा ……………

चाह क्या थी तेरी ऐ हमदम
कभी जुस्तजू तो की होती
हम तो थे राहो में खड़े हरदम
कोशिशें ढूंढने की की होती

न कर सकी तू वफ़ा ……………

ख्वाहिशें जो भी थी मेरे दिलमें
जो भी थी कहती थी मेरी आँखे
जी रही थी लेकर दर्द सिनेमें
मुझसे क्यों कह न सकीं तेरी आँखे

न कर सकी तू वफ़ा ……………

अब जो तू सामने नहीं है सनम
दिल यु मायूस हो जाता है
चाह ये है तुम मिलो अगले जनम
बिन तुम्हारे जिया न जाता है

न कर सकी तू वफ़ा ऐ सनम
मुझे तुझसे कोई गिला भी नहीं
न कर सकी तू वफ़ा ……………
—————//**–
शशिकांत शांडिले, नागपुर
भ्रमणध्वनी – ९९७५९९५४५०

16 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 24/05/2017
  2. ashwin1827 ashwin1827 25/05/2017
  3. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 25/05/2017
  4. Madhu tiwari Madhu tiwari 25/05/2017
  5. C.M. Sharma babucm 25/05/2017
  6. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/05/2017
  7. Kajalsoni 25/05/2017

Leave a Reply