* पैसा *

* पैसा *

पैसा से प्यार इजहार इकरार
आज बना यह मुख्य व्यापार,

पैसा से इज्जत पैसा से पहुंच
कलजुग में यह अस्त्र अचूक,

पैसा हर रास्ते का साधन
आज का यह एक प्रमुख संसाधन,

इसके रास्ते आज बना अमानुष
जड़-जोगार तिकड़ी धुर,

पैसा से कलजुग के प्रभाव को मिटाए
अध्यात्म मानवता में पैठ बनाए।

8 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 24/05/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 24/05/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 24/05/2017
  4. Kajalsoni 24/05/2017
  5. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 25/05/2017
  6. saket.ektate 25/05/2017

Leave a Reply