हिन्दी के गुरूजी

हिंदी के गुरूजी
जब से हमारी कक्षा में
हिंदी के गुरु जी का आगमन हुआ है
मत पूछिए क्या क्या हुआ है
अ की मात्रा
आ की मात्रा
में उलझी है जीवन की यात्रा
जब से अ के माथे पे अनुस्वार आ बैठा है
दिल बेचारा सदमे में बैठा है
अनुतान की तान जब गुरुजी बताते है
अनुनासिक के गुणों को जब गाते है
अनुप्रास अलंकार के ज्ञान में उलझ कर
जी रहे है संभल संभल कर
जब से हिंदी वाले गुरूजी
कक्षा में पधारे है
कथा कविता सुनाते है
सब्दो के भावपूर्ण अर्थ बतलाते हैं
ऐसा लगता है
मानो दिल दिलदार से रुठा है
अपना तो हिंदी ज्ञान झूठा है
अल्प्प्राण महाप्राण का ज्ञान
जब इस मन को होता है
सरीर होता है
प्राण नहीं होता है
जब से हिंदी वाले गुरु का आगमन हुआ है #Abhishek rajhans

13 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 23/05/2017
    • Abhishek Rajhans 23/05/2017
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/05/2017
  3. कृष्ण सैनी कृष्ण सैनी 23/05/2017
  4. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 23/05/2017
    • Abhishek Rajhans 23/05/2017
  5. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 23/05/2017
  6. SARVESH KUMAR MARUT SARVESH KUMAR MARUT 23/05/2017
  7. C.M. Sharma babucm 24/05/2017
  8. Kajalsoni 24/05/2017
    • Abhishek Rajhans 24/05/2017

Leave a Reply