jb zindagi chod jaunga

जब मैं ये ज़िन्दगी छोड़ जाऊंगा, तब तू निराश ना होना..
क्योंकी मैं बदल बन बरस जाऊंगा,
तेरी आंखों से आँशु सब धो जाऊंगा..

जब मैं ये ज़िन्दगी छोड़ जाऊंगा, तब तू खामोश ना रहना..
क्योंकि तेरी धड़कनो संग महफ़िल लगाने आऊंगा..
तब हवा बन तुझ से बतलाऊंगा,
तेरी पसंद की धुन गुनगुनाउंगा..

जब मैं ये जीवन छोड़ जाऊंगा, तब
तू उदास ना होना…
क्योंकि तेरी बगिया में फूल बन खिल जाऊंगा..
तेरी सांसो को अपनी खुसबू से महकाउंगा..

जब मैं ये ज़िन्दगी छोड़ जाऊंगा, तब तू निराश ना होना..
तब मैं त्योंहार बन तुझसे मिलने आऊंगा,
तेरी छत पर दीपक बन सज जाऊंगा,
तेरी खुशियों को खुद रंग बन रंग जाऊंगा,
फिर भी लगे अधूरा जो, तो मांग लेना आसमान से..
तेरी ख्वाइश की ख़ातिर मैं तारा बन टूट जाऊंगा…

जब मैं ये ज़िन्दगी छोड़ जाऊंगा, तब
तू निराश ना होना..
क्योंकि कायनात से चुरा लम्हें तेरे वक्त में भर जाऊंगा,
तेरी चेहरे की रौनक बन मुस्कुराउंगा
तब तेरी पलको में नूर बन बस जाऊंगा,
तब मैं तेरी ही ज़िन्दगी में ज़िन्दगी बन जीने आऊंगा..
@vinod sihag

11 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 23/05/2017
    • vinod sihag vinod sihag 23/05/2017
  2. कृष्ण सैनी कृष्ण सैनी 23/05/2017
    • vinod sihag vinod sihag 23/05/2017
    • vinod sihag vinod sihag 23/05/2017
  3. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 23/05/2017
    • vinod sihag vinod sihag 23/05/2017
  4. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 23/05/2017
  5. SARVESH KUMAR MARUT SARVESH KUMAR MARUT 23/05/2017
  6. Kajalsoni 24/05/2017

Leave a Reply