अच्छी यादो का ही निर्माण – अनु महेश्वरी

जब चाँद के दाग को भूल,
बस उसकी शीतलता को,
याद रखते सभी|
फिर क्यों न बुराईयां भूल,
बस लोगो की अच्छाइयों को,
याद करते सभी?

राह में शत्रु भी मिलते, पर,
ज़िन्दगी में अच्छे दोस्तों को,
याद रखते सभी|
फिर क्यों न दुनियाँ में,
दुश्मनी को जड़ से,
ख़तम करते सभी?

अपनी बुरी यादो से नहीं,
केवल अच्छी यादो से ही,
खुशी मिलती हमें|
फिर क्यों न दुनियाँ में,
अच्छी यादो का ही निर्माण,
करने लगते सभी?

 

अनु महेश्वरी
चेन्नई

18 Comments

    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/05/2017
  1. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 23/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/05/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 23/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/05/2017
  3. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 23/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/05/2017
  4. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 23/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/05/2017
  5. C.M. Sharma babucm 24/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 24/05/2017
  6. Kajalsoni 24/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 24/05/2017
  7. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/05/2017

Leave a Reply