गजल – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा बिन्दु

 

शिलशिला प्यार का चल रहा जमाने से

प्यार हो जाता बस रिश्ता एक बनाने से

 

इसे खेल मल समझो बड़ी कयामत है ये

फलता और फूलता भी है यह निभाने से

 

मेल और viswash दिल को जोड़ देता है

दिल घायल हो जाता नज़र मिलाने से

 

तन्हा जिंदगी आप जीये भी तो क्या जीये

दोस्ती बन जाती है बस बात बनाने से

 

दिल की बात मुहब्बत से जुबां पर लाइये

उजड़े चमन भी बस जाते हैं बसाने से

 

बेवफाई इश्क में क्यों मजबूरियां बन जाती

पागल क्यों हो जाती अपना दिल जलाने से

 

प्यार हो सच्चा जैसे हीर और रांझे की जोड़ी

शकून के फूल भी बरसेंगे बिन्दु याद आने से

 

बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा  बिन्दु

18 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 22/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 22/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 22/05/2017
  2. C.M. Sharma babucm 22/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 22/05/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 22/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 22/05/2017
  4. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 22/05/2017
  5. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 22/05/2017
  6. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 22/05/2017
  7. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 22/05/2017
  8. arun kumar jha arun kumar jha 22/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 23/05/2017
  9. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 23/05/2017
  10. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 23/05/2017
  11. Madhu tiwari Madhu tiwari 23/05/2017
  12. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 23/05/2017

Leave a Reply