ऐ मेरी प्यारी गुड़िया

ऐ मेरी प्यारी गुड़िया
जीवन से भरी,खुशियो की कड़ी
जब से आई तू मेरे अंगना
मेरे भाग्य खुले घर लछ्मि बसी
ऐ……

तेरे मासूम सवालो की लड़ी
तोतली जुवा से हर एक बोली
गुस्से मे कहे या रूठ कर बोली
लगती सुमधुर गीतो से भली
ऐ……….

घर लौटता शाम थक कर चूर चूर
साहब के डाट से मन मजबूर
सुन कर मेरे दो पहिए की आवाज
भागी आती तू मेरे पास
तेरी पापा पापा की पुकार
हर लेती सब कर देती नई
ऐ………

सोचता हू जब तू बड़ी होगी
तेरी शादी लगन की घड़ी होगी
कैसे तुझको बिदा दुंगा
कैसे खुद को सम्भालुंगा
सहम जाता हू निबर पाता हूं
क्यो एैसी रीत बनी जग की
ऐ…………

18 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 21/05/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 22/05/2017
  2. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 22/05/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 22/05/2017
  3. babucm babucm 22/05/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 22/05/2017
  4. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 22/05/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 22/05/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 22/05/2017
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 22/05/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 22/05/2017
  6. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 23/05/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 24/05/2017
  7. Madhu tiwari Madhu tiwari 23/05/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 24/05/2017
  8. Khushbu 24/05/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 24/05/2017

Leave a Reply