कुछ बातें – अनु महेश्वरी

मुश्किल है, औरो के गम को पूरी तरह समझे,
पर हम मुस्कुराके दो पल, बात तो कर सकते|

जब औरोंके गम को, महसूस करने लगेंगे हम,
हम सायद जान पाए, कितना कम है अपना गम|

किसी के ज़ख्म को, कभी इतना भी न कुरेदें,
उसकी, यादे ताज़ा हो, जीना ही दूभर करदे|

केवल अपना रोना न रोए, किसी के सामने कभी,
क्या पता वह भी अंदर से, हो उससे ज्यादा दुःखी|

केवल अपनी बाते कहते रहने से, बेहतर है,
एक अच्छे श्रोता बन, औरोकि भी सुनना सिखे|

यहाँ सच को कोई खरीद नहीं सकता,
और झूठ कभी भी पाला बदल सकता|

 

अनु महेश्वरी
चेन्नई

 

 

20 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 21/05/2017
  2. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 21/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 21/05/2017
  3. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 21/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 21/05/2017
  4. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 21/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 21/05/2017
  5. Shyam Shyam 21/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 21/05/2017
  6. babucm babucm 21/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 21/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 22/05/2017
  7. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 22/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 22/05/2017
  8. md. juber husain md. juber husain 22/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 22/05/2017
  9. Madhu tiwari Madhu tiwari 23/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/05/2017

Leave a Reply