“क्षणिकाएँ”

(1)
कल के साथ जीना कोई बुराई नही
आज की नींव कल पर धरी है।
आज की सीख कल काम आएगी फिर
कल को छोड़ अधर-झूल में कैसे जीया जाए।
(2)
यादें और पतंग एक जैसी ही होती हैं
डोर से टूट कर एक शाख पर अटकती है ,
तो दूसरी दिल और दिमाग मे ।
बस एक हल्का सा झोंका …..,और
हिलोर खा बैठी।
(3)
तारीफ भी अजीब‎ चीज है
इन्सान को चने के झाड़ पर चढ़ा देती है।
उसका तो कुछ नही बिगड़ता
शामत चने के झाड़ की आती है।

×××××××
“मीना भारद्वाज”

20 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 21/05/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 21/05/2017
  2. SARVESH KUMAR MARUT sarvesh kumar marut 21/05/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 22/05/2017
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 21/05/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 21/05/2017
  4. Shyam Shyam 21/05/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 21/05/2017
  5. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/05/2017
  6. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 21/05/2017
  7. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 21/05/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 21/05/2017
  8. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 21/05/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 22/05/2017
  9. babucm babucm 21/05/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 22/05/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 22/05/2017
  10. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 22/05/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 22/05/2017

Leave a Reply