“पोटली”

फटे-पुराने कपड़े और भावों के मंथन में
जब गाँठ लगे तब बनती है पोटली।

आम आदमी के सपने और मजदूर की रोटी
अपने आप में बाँध कर रखती है पोटली।

नन्हे बच्चों की जादुई कहानियाँ और स्वप्निल संसार
मखमली ताने-बाने में छिपा कर रखती है पोटली।

जीवन की कड़वाहट और पुलकन भरी मुस्कुराहट
यादों की परतों में समेट कर रखती है पोटली।

किसी गृहिणी की योग्यता प्रमाणित‎ करती डिग्रीयाँ
धूल की परतों से बचा बड़े जतन से रखती है पोटली।

×××××××××××

“मीना भारद्वाज”

14 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 19/05/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 20/05/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 19/05/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 20/05/2017
  3. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 20/05/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 20/05/2017
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 20/05/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 20/05/2017
  5. C.M. Sharma babucm 20/05/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 20/05/2017
  6. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 20/05/2017
  7. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 20/05/2017
  8. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 20/05/2017

Leave a Reply