सपने

सपने देखा करो ओह यारों
सपने साकार भी होते हैं।
आज हम जिस मंजिल पर हैं
कईओ के ख़्वाब ही होते हैं।
बैठे बिठाए नहीं मिलती मंजिल
मेहनत करने वाले ही कामयाब होते हैं।
उनके सपने सिर्फ सपने ही रहेंगे
जो सपनों के नाम पर सोते हैं।

10 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 18/05/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 18/05/2017
  3. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 18/05/2017
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 18/05/2017
  5. arun kumar jha arun kumar jha 18/05/2017
  6. babucm babucm 19/05/2017
  7. Sukhbir95 19/05/2017
  8. Madhu tiwari Madhu tiwari 19/05/2017
  9. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 20/05/2017

Leave a Reply