रब की अनुपम सौगात

सुविचारों को धारण किए, सौम्य आपकी काया है
मुख-मण्डल की शोभा सौम्य‍, सौम्य आपका साया है
शोभा सिर की बढा रहे ये काले श्यामल केश
सौम्य आप पर लगता है पहनें जो भी वेश
सौम्य विचार सुनने को उद्यत, कानों की सौम्यता क्या कहना
आभूषण विहीन भी लगते हैं सौम्य, बढाता सौन्दर्य कोई भी गहना
लौंग तारा पहने नासिका, सुशोभित है चेहरे का भूगोल
धीर-चंचल साम्य भाव समेटे, लगते सौम्य ये कपोल
लब आपके मतवाले गुलाब की पंखुडियों से लगते हैं
जब देती है मुस्कान, हृदय में सहस्र सुमन खिलते हैं
सांवलेपन में भी होती सौम्यता, कहता आपका रूप है
आनन की छवि ऐसी दिखती जैसे शीतकाल की धूप है
ज्यों सरोवर में सुशोभित सुगंधित दमकते सरोज है
त्यों आपके हृदय-सागर का सौन्दर्य समुन्नत उरोज है
कदली के तने से कोमल पांव, कदम्ब की टहनी से हाथ है
ये कोरी कोमल हथेलियां तो, रब की अनुपम सौगात है
संयमित चाल मध्यम कद, तन संतुलित आकार में ढला है
योग आसन प्राणायाम लगता है इस तन पर ही फला है
सदा मन की बात कहता ‘गोपी’, आज तन की सौम्यता बताई है
तन मन वचन से सौम्य, आपकी सौम्यता हृदय में समाई है

14 Comments

  1. कृष्ण सैनी कृष्ण सैनी 18/05/2017
    • Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 22/05/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 18/05/2017
    • Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 22/05/2017
  3. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 18/05/2017
    • Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 22/05/2017
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 18/05/2017
    • Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 22/05/2017
  5. babucm babucm 19/05/2017
    • Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 22/05/2017
  6. Madhu tiwari Madhu tiwari 19/05/2017
    • Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 22/05/2017
  7. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 20/05/2017
    • Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 22/05/2017

Leave a Reply