माँ..सी.एम्. शर्मा (बब्बू)…

एक चुप्प सी लगी है….

आँखें खुली खुली सी….
राह देखती हैं….
न झपकी हैं न रोई हैं….
वीरान सी….
यादों के बवंडर में….
उलझे…सुलझे….
सवालों …जवाबों में…
डूबी सी….

काँपता बदन…
सूखी काया…
अंतर्मन का हाल…
दिखा रही है…

घर में पीछे…
शोरगुल हो रहा है…
कोई गीत बज रहा है…
साथ साथ कोई गा रहा है…
नाच रहा है…..
सब मस्त हैं अपने में….

एक तारा चमकता है…
आसमान में दूर…बहुत दूर…
आँखों को जैसे….
तकलीफ देता है…
एक पल को झपकती हैं आँखें…
झुकती हैं…
काया ड्योढ़ी से अन्दर को खिसकती है…
बुदबुदाती है….
‘बेटा! तू कब आएगा’
\
/सी.एम्. शर्मा (बब्बू)

20 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 17/05/2017
    • babucm babucm 19/05/2017
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 17/05/2017
    • babucm babucm 19/05/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 17/05/2017
    • babucm babucm 19/05/2017
  4. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 17/05/2017
    • babucm babucm 19/05/2017
  5. raquimali raquimali 18/05/2017
    • babucm babucm 19/05/2017
  6. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 18/05/2017
    • babucm babucm 19/05/2017
    • babucm babucm 19/05/2017
  7. Madhu tiwari Madhu tiwari 21/05/2017
    • babucm babucm 22/05/2017
  8. Kajalsoni 26/05/2017
    • babucm babucm 26/05/2017
  9. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 18/07/2017
    • babucm babucm 18/07/2017

Leave a Reply