भीज गये सपने – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – बिन्दु

भीज गये सपने

 

जब सपने आये ऑखों में

तो नीन्द खुली थी रातों में

वो सपना तो इक सपना था

जो भीज गये बरसातों में।

 

इक भूल हुई जो प्यार किया

बिन समझे आंखे चार किया

बदले में दिल का दर्द दिया

बिन मतलब ये कर्ज लिया।

 

मतलब का यार याराना था

पागल मजनू ये दिवाना था

अब छोड़ो भी इन भूलों को

बस देखो अपने उसूलों को।

 

यह दुनिया इतनी जालिम है

जैसे कि उलझे गालिब है।

यहॉ पग पग पर ही धोखा है

यहॉ किसको किसने रोका है।

 

वह दिल में बसने आती है

पर मन को ड़ंस के जाती है

कुछ ऐसे भी मिल जाते हैं

जीवन के फूल खिल आते हैं।

 

 

16 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 17/05/2017
  2. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 17/05/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 17/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 17/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 17/05/2017
  4. raquimali raquimali 17/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 17/05/2017
  5. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 17/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 17/05/2017
  6. shikha nari 17/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 17/05/2017
  7. babucm babucm 17/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 17/05/2017
  8. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 18/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 18/05/2017

Leave a Reply