मरके भी कब तक निगाहे-शौक़ को रुसवा करें

मर के भी कब तक निगाहे-शौक़ को रुस्वा करें
ज़िन्दगी तुझको कहाँ फेंक आएँ आख़िर क्या करें

ज़ख़्मे-दिल मुम्किन[1] नहीं तो चश्मे-दिल[2] ही वा करें[3]
वो हमें देखें न देखें हम उन्हें देखा करें

शब्दार्थ:

  1. ↑ संभव
  2. ↑ मन की आँख
  3. ↑ खोलें

Leave a Reply