ग़ज़ल(दुनियाँ में जिधर देखो हज़ारों रास्ते दीखते )

किसको आज फुर्सत है किसी की बात सुनने की
अपने ख्बाबों और ख़यालों में सभी मशगूल दिखतें हैं

सबक क्या क्या सिखाता है जीबन का सफ़र यारों
मुश्किल में बहुत मुश्किल से अपने दोस्त दिखतें हैं

क्यों सच्ची और दिल की बात ख़बरों में नहीं दिखती
नहीं लेना हक़ीक़त से क्यों मन से आज लिखतें हैं

धर्म देखो कर्म देखो अब असर दीखता है पैसों का
भरोसा हो तो किस पर हो सभी इक जैसे दिखतें हैं

सियासत में न इज्ज़त की ,न मेहनत की कद्र यारों
सुहाने स्वप्न और ज़ज्बात यहाँ हर रोज बिकते हैं

दुनियाँ में जिधर देखो हज़ारों रास्ते दीखते
मंजिल जिनसे मिल जाये बह रास्ते नहीं मिलते

ग़ज़ल(दुनियाँ में जिधर देखो हज़ारों रास्ते दीखते )
मदन मोहन सक्सेना

4 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 16/05/2017
  2. C.M. Sharma babucm 16/05/2017
  3. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 16/05/2017
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 17/05/2017

Leave a Reply