फ़ुर्सत कहाँ कि छेड़ करें आसमाँ से हम

फ़ुर्सत कहाँ कि छेड़ करें आसमाँ से हम
लिपटे पड़े हैं लज़्ज़ते-दर्दे-निहाँ[1] से हम

इस दर्ज़ा बेक़रार थे दर्दे-निहाँ से हम
कुछ दूर आगे बढ़ गए उम्रे-रवाँ[2] से हम

ऐ चारासाज़[3] हालते दर्दे-निहाँ न पूछ
इक राज़ है जो कह नहीं सकते ज़बाँ से हम

बैठे ही बैठे आ गया क्या जाने क्या ख़याल
पहरों लिपट के रोए दिले-नातवाँ [4] से हम

शब्दार्थ:

  1. ↑ आन्तरिक वेदना के आनन्द
  2. ↑ गतिशील आयु,जीवन
  3. ↑ उपचारक
  4. ↑ क्षीण, निर्बल हृदय

Leave a Reply