दोहे

दोहे – 2

 

विचलित मन बांधिये नहीं तो डगमाडोल

जो हालत है देश की बन जायेगी ढ़ोल।

 

बनिये तुलसी कबीर रखिये नीयती साफ

जग का जैसे हो भला गिरे न इसका ग्राफ।

 

कलियुग में कल्याण से सब बच पायेंगे लोग

र्बबादी का जड है माया – ममता – लोभ।

 

आधा जिनका ज्ञान है करते हरदम घात

पूरा ज्ञान महाकाल कर देते वारदात।

 

शैतानी दीमाग का मत पूछिये अपराध

जिधर चाह वहीं ढौर है जैसे कि जल्लाध।

 

ऐसे मन को राखिये मन विचलित न होय

प्रेम का पाठ पढ़ाइये दुर्जन के मन धोय।

 

सत्य सनातन कर्म से अब बनिये निब्ठावान

ज्ञान योग से धर्म योग योग ही मुक्ति ज्ञान।

 

खंजर तो एक अस्त्र है वस्त्र है उसका म्यान

योद्धाओं के शान का रखता हरदम ध्यान।

 

दिल का मिलना प्रेम है प्रेम ही पूजा ज्ञान

मन का मिलना धैर्य है दया धर्म सम्मान।

 

बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – बिन्दु

16 Comments

  1. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 15/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 15/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 17/05/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 15/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 15/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 17/05/2017
  3. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 15/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 15/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 17/05/2017
  4. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 15/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 15/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 17/05/2017
  5. C.M. Sharma babucm 16/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 16/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 17/05/2017
  6. Vijay Kumar Singh 16/05/2017

Leave a Reply