जीवन के दौड़ ठौर नही

जीवन के दौड़ ठौर नही
हम भी चले तुम भी चलो
जो रहे पीछे उसे भी
साथ ले आगे बढो
बस प्रेम का परित्रात हो
न ईष्या का आघात हो
जो रूठे कोई अपना
उसको भी मनाते चलो
जीवन के……….

शिक्छित अपना समाज हो
अच्छाई का प्रचार हो
बड़ो का सम्मान हो
छोटो को प्यार प्यार हो
न घ्रिणा का स्थान हो
न हीनता का भान हो
समाज के हर एक जन
विश्वास फैलाते चलो
जीवन के………..

रेस है किस बात की
आराम से बढते चलो
प्रतियोगिता करनी है
अपने आप से करते चलो
सहयोग का प्रसार हो
इस भाव मे विश्वास हो
हर एक जन के हाथ मे
हाथो को डाले चलो
जीवन……….

दूसरे के दर्द को महसूस
तुम करते चलो
हर सको न दर्द तो
कुछ बात तो करते चलो
ये जीवन एक राह है
चलते चलते चले जाऐगे
जब तक चलो इस जिन्दगी का
साथ निभाते चलो
जीवन ………….

17 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 18/05/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 18/05/2017
  2. shikha nari 18/05/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 18/05/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 18/05/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 19/05/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 18/05/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 19/05/2017
  4. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 18/05/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 19/05/2017
  5. babucm babucm 18/05/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 18/05/2017
  6. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 19/05/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 19/05/2017
  7. Madhu tiwari Madhu tiwari 19/05/2017
    • arun kumar jha arun kumar jha 19/05/2017

Leave a Reply