“परिवर्तन” – दुर्गेश मिश्रा

अभिमान का चेहरा तो देखो कैसे चमक उठा है                                                                                                                                           जो रो रहा था कल गुरुर उस पर चढ़ रहा है,                                                                   ढूंढता था गलतियां जो खुद में,                                                                                   आज उंगलिया उठा रहा है ,

अभिमान का चेहरा तो देखो…

तरस रहे थे आवाज को जिनके,                                                                                   सुर देखो छेड़ रहा है ,                                                                                                 कल्पना ना की थी कभी कटाक्ष वो भी बो रहा है ,

अभिमान का चेहरा तो देखो…

बदल दिया खुद को ही ऐसा साबित करना कुछ चाहा था ,                                                                                                                               ऊँचा उठने के चक्कर में घाव अपनों को पहुचाया था ,                                                                                                                               कह दिया सब कुछ, भीतर जो भी आया था,                                                                                                                                                 सोच कर बोलने वाला भी लगाम छोड़ कर आया था |

अभिमान का चेहरा तो देखो….

कुछ यूँ इठ्ला गई ज़िन्दगी, मुँह चिढ़ा कर कह गयी ,                                                                                                                             इंतज़ार करके क्या मिला ?                                                                                                                                                                   शर्मिंदा करके पल गया….                                                                                                                                                                           जो सो चला वो खो चला,                                                                                                                                                                               जो बदल गया वो मर गया |

अभिमान का चेहरा तो देखो….

2 Comments

  1. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 13/05/2017
  2. C.M. Sharma babucm 15/05/2017

Leave a Reply