हम से जाओ न बचाकर आँखें

हम से जाओ न बचाकर आँखें
यूँ गिराओ न उठाकर आँखें

ख़ामोशी दूर तलक फैली है
बोलिए कुछ तो उठाकर आँखें

अब हमें कोई तमन्ना ही नहीं
चैन से हैं उन्हें पाकर आँखें

मुझको जीने का सलीका आया
ज़िन्दगी ! तुझसे मिलाकर आँखें।

2 Comments

  1. Anuj Bhargava A K Bhargava 31/01/2013
  2. सुधीर कुमार सोनी 23/07/2013

Leave a Reply