सुनो-सुनाओ – अनु महेश्वरी

क्यों, इतनी मेहनत भी,
सुख-सुविधा के लिए?
चलो दो पल साथ बिताए,
कुछ पल जिए अपने लिए|
कुछ तुम मेरी सुनो,
कुछ तुम अपनी सुनाओ|

क्यों, छुटियाँ बिताने भी,
विदेशों की यात्रा पे जाए?
आओ, बैठे किसी पार्क में,
या फिर बैठे समुद्र तट पे|
कुछ तुम मेरी सुनो,
कुछ तुम अपनी सुनाओ|

क्यों, कुछ मीठी यादे न छोड़े,
कुछ पल निकाले अपने लिए?
न जाने कब ज़िन्दगी थम जाए,
न जाने कब साथ छूट जाए|
कुछ तुम मेरी सुनो,
कुछ तुम अपनी सुनाओ|

 
अनु महेश्वरी
चेन्नई

16 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 12/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 12/05/2017
  2. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 12/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 12/05/2017
  3. babucm babucm 12/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 12/05/2017
  4. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 12/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 12/05/2017
  5. raquimali raquimali 12/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 12/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 12/05/2017
  6. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 12/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 12/05/2017
  7. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 13/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 13/05/2017

Leave a Reply