ऐसे रिश्ते… Raquim Ali

** ऐसे रिश्ते **

एक लड़के की, एक लड़की से
एक मर्द की, एक ग़ैर औरत से
अगर बेसाख्ता गहरी दोस्ती होती है
अगर बेसाख्ता सखा-सखी होती है;

अगर उनमें हंसी-मजाक होते हैं
मान-मनौव्वल व तकरार होते हैं
अगर साथ-साथ खाते हैं, पीते हैं
उठते-बैठते हैं, सोते हैं, जागते हैं;

ऐसे रिश्ते अक्सर, छुप-छुप कर बनाये जाते हैं
कच्चे धागे से जुड़े, कमजोर व लाचार होते हैं
अक्सर ऐसे रिश्ते रुस्वा होते हैं, दुःख दे जाते हैं-
जब, ऐसे रिश्ते बेक़ाबू होकर दाग़दार हो जाते हैं।

ऐसे रिश्ते
सेलेब्रेटरीज में पनपें तो, चटखारी खबरें बन जाती हैं
कमाने वालों में हों तो लिव-इन-रिलेशन कहलाती हैं;
जिस समाज में कभी फोटो, या मैसेज पकड़े जाते हैं
उसकी निगाह में, ये कत्तई अच्छे नहीं समझे जाते हैं।

ऐसे रिश्ते
जब खुल जाते हैं या बिगड़ जाते हैं
थाने में बड़ी मुश्किल से जा पाते हैं
जज साहब कोई सजा नहीं दे पाते हैं।

हां
इस्लामी कानून में तो है, ऐसों पर कोड़े बरसाए जाएं
बेवफाई हो जीवन-साथी से, तो संगसार किया जाए,
पर
इसके हिमायती कट्टर व दकियानूस बतलाए जाते हैं।

(संगसार: निर्णय होने के बाद, सार्वजनिक स्थान पर पत्थर फेंक-फेंक कर मार डालना।)

…. र.अ. bsnl

9 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/05/2017
  2. raquimali raquimali 11/05/2017
  3. babucm babucm 11/05/2017
  4. raquimali raquimali 11/05/2017
  5. raquimali raquimali 11/05/2017
  6. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 11/05/2017
  7. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 11/05/2017
  8. raquimali raquimali 12/05/2017

Leave a Reply