तक़दीर – अनु महेश्वरी

लिखा तक़दीर में जो,
मिल के रहेगा ही वो|
ऐसी बाते जो करते है,
मूल बात भूल जाते है|

क्या लिखा तक़दीर में,
यह कैसे पता चलेगा?
कुछ मिलने के बाद ही,
तक़दीर का भेद खुलेगा|

अपनी ज़िन्दगी है जब तक,
कोशिशें जारी रखे तब तक,
क्या पता, क्या लिखा, कब मिल जाए,
बैठ इंतजार करने से, कुछ हाथ न आए|

 
अनु महेश्वरी
चेन्नई

14 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 10/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 10/05/2017
  2. vijaykr811 vijaykr811 10/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 10/05/2017
  3. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 10/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 10/05/2017
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 10/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 10/05/2017
  5. arun kumar jha arun kumar jha 10/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 10/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 11/05/2017
  6. babucm babucm 11/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 11/05/2017

Leave a Reply