दिल ने की दिल से हरेक बात….सी. एम्. शर्मा (बब्बू)…

मिले जो तुम, तेरी आँखों ने कुछ कहने न दिया….
दिल ने की दिल से हरेक बात कुछ रहने न दिया…

आये तुम ख्वाब में रात गुलज़ार हो उठी मेरी….
दिन नज़ारों ने भी बेचैन फिर मुझे रहने न दिया…

किसी को चाँद की चाहत कोई मांगे सितारे…
चाह तेरी ने किसी और चाह को रहने न दिया…

हो तेरी याद या कि तेरी ज़ुल्फ़ों के घने से साये….
किसी भी पल तुमने मुझे घूप में जलने न दिया….

हो हसीं इतने नज़र हटती नहीं चेहरे से तेरे…
दिल तेरा ऐसा कि मुझे मेरा ही रहने न दिया…

जो कभी सोचा ले उड़ूँ तुझे मैं किसी और जहां….
चली कुछ ऐसी फ़िज़ा खवाब मेरे को फलने न दिया…

बिन तेरे, वक़्त की डोर में उलझी है सांसें मेरी….
तेरी उम्मीद ने मगर इनको कभी कटने न दिया….

हो गया संग ये दिल मेरा भी तपन से ऐसे…
उठी थी आंधी मगर इसने मुझे गिरने न दिया….

जो गुज़रा नहीं वो भी गुज़र ही जाएगा यूं ही….
दिल ने किसी पल का तलबगार मुझे रहने न दिया…

खुली जो आँख टूट के सपना बिखर गया मेरा…
उम्र भर खौफ ने मेरी आँख को फिर लगने न दिया….

कहाँ तो चाँद निकल आया दिन में भी दुआ से…
अब हर पल की अमावस ने ‘चन्दर’ मिलने न दिया…
\
/सी. एम्. शर्मा (बब्बू)

18 Comments

  1. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 08/05/2017
    • babucm babucm 08/05/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/05/2017
    • babucm babucm 08/05/2017
      • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/05/2017
        • babucm babucm 08/05/2017
  3. raquimali raquimali 08/05/2017
    • babucm babucm 09/05/2017
  4. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 08/05/2017
    • babucm babucm 09/05/2017
  5. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 08/05/2017
    • babucm babucm 09/05/2017
  6. Kajalsoni 09/05/2017
    • babucm babucm 11/05/2017
  7. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 09/05/2017
    • babucm babucm 11/05/2017
      • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 11/05/2017
        • babucm babucm 12/05/2017

Leave a Reply