दोहे – बी पी शर्मा बिन्दु

मन दरियाव में डूबा समंद मोती खोज

भटका जो मन आपका वह है जीवन बोझ।

मॉ बाप की सेवा जो करे सो न पछताय

जो सेवा से दूर है पहले ही मर जाय।

दादा दादी स्वर्ग के खुले हुये दरवार

चार धाम भटक रहे यही तो अमृत धार।

नैनन से जब नीर वहे बहुत गये घबराय

मॉ की ऑचल छोड़ के कहीं नहीं सुख पाय।

दुर्जन तो दुर्जन होत होत कभी ना पाक

लोभ भला करता नहीं पाप न करता माफ।

बी पी शर्मा  बिन्दु

10 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 06/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 06/05/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 06/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 06/05/2017
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 06/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 06/05/2017
  4. C.M. Sharma babucm 07/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 08/05/2017
  5. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 08/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 08/05/2017

Leave a Reply to Shishir "Madhukar" Cancel reply