ज़िन्दगी – अनु महेश्वरी

 

मिल कर बिछरना,
बिछड़ के मिलना,
जीवन का हिस्सा है|

कुछ हमे छोड़ जाते,
किसी को हम छोड़ आते,
संसार का यही दस्तूर है|

नए रिश्ते भी बनते रहते,
पुराने भी दिल में रहते,
यही तो जीने का तरीका है|

कुछ रिश्ते दूर होकर भी पास होते,
कुछ पास होकर भी दूर ही रहते,
यही तो जीवन की सच्चाई है|

कुछ को हम भूलना नहीं चाहते,
कुछ से हम जुड़ना नहीं चाहते,
यह ज़िन्दगी की अजीब दास्ताँ है|

 

अनु महेश्वरी
चेन्नई

18 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 02/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 02/05/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 02/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 02/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 02/05/2017
  3. Anjali yadav 02/05/2017
  4. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 02/05/2017
  5. vijaykr811 vijaykr811 02/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 03/05/2017
  6. babucm babucm 02/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 03/05/2017
  7. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 03/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 03/05/2017
  8. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 03/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 03/05/2017
  9. mani mani 05/05/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 08/05/2017

Leave a Reply