गज़ल – बी पी शर्मा बिन्दु

मेरे चश्म उनके चेहरे का नूर पढ़ता रहा

बेवफा क्या जाने अपना कसूर पढ़ता रहा।

 

हमने की थी कोशिशें बहुत उन्हें पाने की

हाले दिल कि ही अपनी दस्तूर पढ़ता रहा।

 

मेरा घर उनके ही घर के सामने क्यों था

मजबूर थे इतने उनका सरूर पढ़ता रहा।

 

छुप छुप कर मिलना बात करना सब याद है

होश में अपनी किस्मत का गुरूर पढ़ता रहा।

 

हमनें तन्हाई में ही कितनी रातें गुतार दी

जीने के लिए तकदीर का हूर पढ़ता रहा।

 

अपने ही खंजर से घायल होकर आज बिन्दु

अपनी बर्वादी का मंजर मजबूर पढ़ता रहा।

 

बी पी शर्मा  बिन्दु

15 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 02/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 02/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 02/05/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 02/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 02/05/2017
  3. C.M. Sharma babucm 02/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 02/05/2017
  4. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 02/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 02/05/2017
  5. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 02/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 02/05/2017
  6. angel yadav anjali yadav 02/05/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 02/05/2017
  7. mani mani 05/05/2017

Leave a Reply