खत तो तूने भेज दिया

खत तो तूने भेज दिया सवाल तुझसे क्या पूछूं।
दिल तो धड़कना भूल गया जवाब तुझ को क्या भेजूं।।

गम के बादल छा गए आंसुओं का समंदर टूट पड़ा।
दिल बेचैन हो पड़ा रब भी हमसे रुठ पड़ा।।

न्योता तो तूने भेज दिया शरीक हम कैसे हो।
गम तो छुपा लेंगे मगर आंसू को छुपाएंगे कैसे।।

तू किसी और की बन तो जाएगी मगर मुझको बुलाएगी कैसे।
खात तो जला देगी मगर दिल से मिटाएगी कैसे।।

आखिरी खत भेज रहा हूं संभाल के रख लेना तुम।
रब से दुआ मांग रहा हूं खुश रह लेना तुम ।।
जब भी हमारी याद सताए मुस्कुरा लेना तुम फिर भी दिल ना माने। इसी खत को पढ़ लेना तुम।।
कुंवर शिवम

14 Comments

  1. babucm babucm 01/05/2017
    • shivam verma shivam verma 01/05/2017
  2. vijaykr811 vijaykr811 01/05/2017
    • shivam verma shivam verma 01/05/2017
  3. Madhu tiwari Madhu tiwari 01/05/2017
    • shivam verma shivam verma 01/05/2017
    • shivam verma shivam verma 01/05/2017
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 01/05/2017
    • shivam verma shivam verma 01/05/2017
  5. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 01/05/2017
    • shivam verma shivam verma 01/05/2017
  6. mani mani 01/05/2017
    • shivam verma shivam verma 02/05/2017

Leave a Reply