मेरे ख्वाबो की यात्रा

जागती आँखों को एक
ख्वाब आ जाये .
गुनगुनाता हुआ गीत ,
कोई बन जाये .
बावरेपन का झोका बनकर ,
खुशबू बन मन लहरा जाये .
फुरसत में बने पालो की ,
कोई तस्वीर बस,
सामने आ जाये .
सुहानी खुशबू का हिस्सा बन कर ,
बस दिल की शहनाई बन जाये .
खोये इन अनजाने ख्वाबो में ,
कोई अपना सा ख्वाब आ जाये .
साथ में मिलकर चलने की चाहत ,
हर पल संजोता चला जाये .
हर मेरे सफर का मुसाफिर बन कर ,
इस मन की मंजिल मिल जाये .
राहो पर चलते चले जाये ,
बस छत की मुंडेर पर ,
ये आँखे ओझल हो जाये .
                   बस ये आंखे ओझल हो जाये ..            

                                                                          Anjali yadav 

                                                                                 KGMC . (lko)

8 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 29/04/2017
  2. babucm babucm 29/04/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 29/04/2017
  4. Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 29/04/2017
  5. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 29/04/2017
  6. Madhu tiwari Madhu tiwari 29/04/2017
  7. mani mani 30/04/2017

Leave a Reply