दिल की धडकन

मेरे नजरों में बस गई हो तुम

मेरे पलकों में उतर गई हो तुम।

 

जब से देखा है गौर से तुमको

मेरे सासों में संवर गई हो तुम।

 

ऐसा लगता हम बन गये हैं तेरे

दिल धडकन सी धडक गई हो तुम।

 

ये मन आइना है इसे झांककर देखो

मेरे यादों में ही उलझ गई हो तुम।

 

चैन मिलता ही नहीं अब रातों में

फूल गुलशन सा महक गई हो तुम।

 

खुदा खैर करे तेरी लंम्बी हो उमर

ऐसे रिमझिम सा बरस गई हो तुम।

 

बी  पी  शर्मा    बिन्दु

15 Comments

    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 28/04/2017
  1. Alena Sham 27/04/2017
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 27/04/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 28/04/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 27/04/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 28/04/2017
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 27/04/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 28/04/2017
  5. babucm babucm 28/04/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 28/04/2017
  6. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 28/04/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 28/04/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 30/04/2017
  7. Kajalsoni 28/04/2017

Leave a Reply