एक अनजान डगर

जिस दिन आए थे तुम मुझसे मिल ने
बढ गए थे कदम एक अनजान डगर पे।
खुशी ओर गम के गोदे खा रहे थेे हम,

तुम मुझे खींच रहे थे अपने शहर में।

जाने क्या पाना था मुझे और क्या हैं मिला,

ये तो तेरे साथ चल कर चलेगा पता।

साथ चलने की कसम खा रहे थे तुम मगर,

जाने कितना दे सकोगे साथ मेरा।

ये तो वक्त आने पर चलेगा पता।

तुम गलत हो या सही,

अब तलक न जान पाए हम।

आज तेरे संग हंस कर गुजार लू,

कल की है किसको खबर।

14 Comments

  1. chandramohan kisku chandramohan kisku 15/07/2017
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 16/07/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 15/07/2017
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 16/07/2017
  3. SARVESH KUMAR MARUT SARVESH KUMAR MARUT 16/07/2017
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 16/07/2017
  4. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 16/07/2017
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 16/07/2017
  5. Madhu tiwari Madhu tiwari 16/07/2017
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 19/07/2017
  6. angel yadav Anjali yadav 16/07/2017
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 19/07/2017
  7. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 17/07/2017
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 19/07/2017

Leave a Reply