जीवन की पहचान

 

 

सबकी मंजिल एक है,मालिक सबका एक

धरती-अम्बर एक है साथी ,सूरज चंदा एक।

आत्मा अनेक एक परमात्मा, है रूप अनेक

माया-मोह बंधन में क्यों, अब बर्बस विवेक।

माटी का इक पुतला,ज्यादा क्या है इंसान

जब शरीर आत्मा, तब तक जान में जान।

भटके क्यों मानव ,अब अपने को पहचान

जीवन बडा अनमोल है ,बनता क्यों नदान।

सादा जीवन उच्च विचार,मन में अपना लाओ

काली चादर दूर हटाकर ,सत्य मार्ग अपनाओ।

जीवन अपना धन्य बनाओ ,ऐसा नाम कमाओ

फल की चिंता छोड दो प्यारे, कर्म प्रधान बनाओ।

मुठ्ठी बांध के आए थे तुम, जीवन साथ में लाए

खाली हाथ जाना है फिर, जग को क्यों रूलाये।

कर उपकार प्यार में सबको,अपने गले लगाओ

ज्ञान प्रकाश फैलाकर भैय्या, अंधकार दूर भगाओ।

 

 

बी पी शर्मा  बिन्दु

14 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 26/04/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 26/04/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 26/04/2017
  2. C.M. Sharma babucm 26/04/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 26/04/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 26/04/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 26/04/2017
  4. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 26/04/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 26/04/2017
  5. chandramohan kisku chandramohan kisku 26/04/2017
  6. Madhu tiwari Madhu tiwari 27/04/2017
    • Bindeshwar prasad sharma bindeshwar prasad sharma 27/04/2017
  7. Kajalsoni 28/04/2017

Leave a Reply