चेहरा

      

 

चिराग जलाई काली हो गई रात

बस धुॅआ ही धुॅआ निकलता रहा

न रौशनी आई न कारवॉ चमका

कुछ इस तरह इसारे में कुछ घूॅघट में हो गई बात।

न दीदार हुआ न चश्म में उतार सके आपका चेहरा

बस कैद में ही रही रौशनी अंधेरे में मेरी ये तब्बसुम।

चॉद में भी होता है दाग यह मैंने जान लिया

खुदा खैर करे उसकी मैंने भी पहचान लिया।

सांस किराये का लेकर कब-तलक जियेंगे हम

दो जून की रोटी हमें खून से निकालना पडता है।

सुकून आती है तो हम जन्नत की बात करते हैं

मुस्किल की घड़ी में अब मुहब्बत की बात करते हैं।

 

बी पी शर्मा  बिन्दु

14 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/04/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 30/04/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 25/04/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 30/04/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/04/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 30/04/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 30/04/2017
  4. C.M. Sharma babucm 25/04/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 30/04/2017
  5. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/04/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 30/04/2017
  6. Kajalsoni 27/04/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 30/04/2017

Leave a Reply